ज़माने की रफ़्तार

कह दो न रोक सकेंगे ज़माने की रफ़्तार वो
घडी मुट्ठी में दबा लेने से वक़्त नहीं रुक जाया करता है
न बने दीवार सच्ची मुहब्बत के दरमियाँ
कुछ जोड़ियों को खुद खुदा बनाया करता है

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s